भाववाचक संज्ञा – परिभाषा और उदाहरण


इस पोस्ट में हम भाववाचक संज्ञा के बारे में पड़ने वाले हैं, इस आर्टिकल में हम भाववाचक संज्ञा की परिभाषा, भाववाचक संज्ञा के भेद और भाववाचक संज्ञा को उदाहरण के द्वारा समझेंगे। इसके अलावा हम संज्ञा के भेद के बारे में भी जानेंगे तो भाववाचक संज्ञा से सम्बंधित सम्पूर्ण जानकारी के लिए आर्टिकल को अंत तक पढ़े

संज्ञा के भेद
संज्ञा के हिंदी व्याकरण में पॉंच भेद होते हैं जो कि आपको निम्नलिखित दिये गए हैं जिसमे से आज इस आर्टिकल में हम भाववाचक संज्ञा के बारे में पढ़ने वाले हैं-
1) व्यक्तिवाचक संज्ञा ( Proper Noun )
2) जातिवाचक संज्ञा ( Common Noun )
3) भाववाचक संज्ञा ( Abstract Noun )
4) समूहवाचक संज्ञा ( Collective Noun )
5) द्रव्यवाचक संज्ञा ( Material Noun )

भाववाचक संज्ञा परिभाषा

ऐसे शब्द जो किसी पदार्थ या किसी व्यक्ति के भाव अथवा अवस्था का बोध कराते हैं भाववाचक संज्ञा कहलाती है। सामान्य भाषा में कहे तो किसी गुण, दशा, भाव अथवा अवस्था का बोध कराने वाले शब्दों को भाववाचक संज्ञा कहा जाता है। ऐसी संज्ञा जिसे हम छू नही सकते है इसको केबल महसूस कर सकते हैं या अनुभव कर सकते हैं। इसका कोई रूप या आकार नहीं होता है।
जैसे – मिठास, थकावट, खटास, खुशी, दुःख, उदास, प्रसन्नता, अपनापन, प्यास, भूख, क्रोध, धर्म, नीचता, मानवता, बुढ़ापा इत्यादि।

भाववाचक संज्ञा के उदाहरण

1. राधिका की आबाज में बहुत मिठास है।
इस वाक्य में मिठास शब्द मीठेपन का बोध करा रहा है जिसे हम सिर्फ महसूस कर सकते हैं अतः मिठास एक भाववाचक संज्ञा है।

2. उसने अपना पूरा बचपन खेलने में लगा दिया।
इस वाक्य में बचपन भाववाचक संज्ञा है जिसको हम सिर्फ महसूस कर सकते हैं।

3. राधा जी ने श्री कृष्ण से सच्चा प्रेम किया था।
इस वाक्य में प्रेम एक भाववाचक संज्ञा है जो कि ह्रदय की भावनाओ को दर्शाता है।

4. अधिक कार्य करने के बाद थकावट होने लगती है।
इस वाक्य में थकावट भाववाचक संज्ञा है जिसको हमलोग सिर्फ महसूस कर सकते हैं।

5. राम और श्याम की दोस्ती पूरे शहर में मशहूर है।
इस वाक्य में दोस्ती शब्द भाववाचक संज्ञा है क्योंकि दोस्ती को सिर्फ अनुभव किया जा सकता है।

6. मास्टर जी बहुत खुश हैं।
इस वाक्य में मास्टर जी के खुश होने का बोध हो रहा है इसलिए खुश शब्द यहाँ भाववाचक संज्ञा है।

7. रमेश बहुत ईमानदार व्यक्ति है।
इस वाक्य में ईमानदार शब्द रमेश के चरित्र का बोध करवा रहा है इसलिए ईमानदार शब्द यहाँ भाववाचक संज्ञा है।

8. शिक्षक बहुत क्रोध में हैं।
इस वाक्य में शिक्षक के भाव का पता चल रहा है इसलिए क्रोध एक भाववाचक संज्ञा है।

जातिवाचक संज्ञा से भाववाचक संज्ञा बनाना

मनुष्यमनुष्यता
मानवमानवता
भाईभाईचारा
इंसानइंसानियत
प्रभुप्रभुता
पात्रपात्रता
घरघरेलू
पुरुषपुरुषत्व
मुर्ख मूर्खता
मित्र मित्रता

संज्ञा से भाववाचक बनाना

लड़कालडकपन
पंचपंचायत
शिष्यशिष्यत्व
भारभारीपन
बूढ़ाबुढ़ापा
राष्ट्रराष्ट्रीयता
वकीलवकालत
देवदेवत्व

सर्वनाम से भाववाचक संज्ञा बनाना

अहंअहंकार
स्वस्वत्व
परायापरायापन
निजनिजत्व
आपआपा
अपनाअपनापन
सर्व सर्वस्व
मम ममत्व

क्रिया से भाववाचक बनाना

लिखनालेख
बनानाबनावट
कमानाकमाई
उड़नाउड़ान
सींचनासिंचाई
लड़नालड़ाई
महकनामहक

विशेषण से भाववाचक संज्ञा बनाना

अमीरअमीरी
मूर्खमूर्खता
गंभीरगंभीरता
गोरागोरापन
बेईमानबेईमानी
एकएकता
कायरकायरता

अव्यय से भाववाचक बनाना

परस्परपारस्पर्य
निकटनैकट्य
समीपसामीप्य
दूरदुरी
मनामनाही
पूर्णपूर्णता

Leave a Comment